Thursday, January 9, 2020

सुनो सबकी, करो मन की Moral Story For Kids Hindi

सुनो सबकी, करो मन की

Moral Stories For Kids,Stories For Kids,Moral Stories,Bedtime Stories For Kids,Kids Stories,Kids Stories With Moral,Bedtime Stories,Short Stories For Kids,Moral Stories For Children,Story For Kids,Stories,Panchatantra Stories,Hindi Kahaniya For Kids,Short Moral Stories For Kids,Moral Stories For Kids In Hindi,Hindi Kids Stories With Moral,Moral Stories For Kids In English,Moral Stories In English,Moral Stories,Stories In Hindi,Fairy Tales In Hindi,Hindi Kahaniya,Hindi Stories With Moral,Kahaniya In Hindi,Hindi Moral Stories,Hindi Animated Stories,Hindi Kahani,Stories,Hindi Fairy Tales,Hindi Stories,Bedtime Stories,Hindi Story,Moral Stories For Kids,Moral Story,Kahani In Hindi,Hindi,Panchtantra Stories,Moral Stories In Hindi,Hindi Kids Stories With Moral,Story In Hindi,Bedtime Moral Stories, Motivational Story In Hindi,Motivational Stories In Hindi,
Moral Stories For Kids,Stories For Kids,Moral Stories,Bedtime Stories For Kids,Kids Stories,Kids Stories With Moral,Bedtime Stories,Short Stories For Kids,Moral Stories For Children,Story For Kids,Stories,Panchatantra Stories,Hindi Kahaniya For Kids,Short Moral Stories For Kids,Moral Stories For Kids In Hindi,Hindi Kids Stories With Moral,Moral Stories For Kids In English,Moral Stories In English,Moral Stories,Stories In Hindi,Fairy Tales In Hindi,Hindi Kahaniya,Hindi Stories With Moral,Kahaniya In Hindi,Hindi Moral Stories,Hindi Animated Stories,Hindi Kahani,Stories,Hindi Fairy Tales,Hindi Stories,Bedtime Stories,Hindi Story,Moral Stories For Kids,Moral Story,Kahani In Hindi,Hindi,Panchtantra Stories,Moral Stories In Hindi,Hindi Kids Stories With Moral,Story In Hindi,Bedtime Moral Stories, Motivational Story In Hindi,Motivational Stories In Hindi,

एक बार की बात है। बहुत से मेंढक जंगल से जा रहे थे। वे सभी आपसी बातचीत में कुछ ज्यादा ही व्यस्त थे। तभी उनमें से दो मेंढक एक जगह एक गड्ढे में गिर पड़े। बाकी मेंढकों ने देखा कि उनके दो साथी बहुत गहरे गड्ढे में गिर गए हैं।
गड्ढा गहरा था और इसलिए बाकी साथियों को लगा कि अब उन दोनों का गड्ढे से बाहर निकल पाना मुश्किल है।
साथियों ने गड्ढे में गिरे उन दो मेंढकों को आवाज लगाकर कहा कि अब तुम खुद को मरा हुआ मानो। इतने गहरे गड्ढे से बाहर निकल पाना असंभव है।
दोनों मेंढकों ने बात को अनसुना कर दिया और बाहर निकलने के लिए कूदने लगे। बाहर झुंड में खड़े मेंढक उनसे चीख कर कहने लगे कि बाहर निकलने की कोशिश करना बेकार है। अब तुम बाहर नहीं आ पाओगे।
थोड़ी देर तक कूदा-फांदी करने के बाद भी जब गड्ढे से बाहर नहीं निकल पाए तो एक मेंढक ने आस छोड़ दी और गड्ढे में और नीचे की तरफ लुढ़क गया। नीचे लुढ़कते ही वह मर गया।
दूसरे मेंढक ने कोशिश जारी रखी और अंततः पूरा जोर लगाकर एक छलांग लगाने के बाद वह गड्ढे से बाहर आ गया। जैसे ही दूसरा मेंढक गड्ढे से बाहर आया तो बाकी मेंढक साथियों ने उससे पूछा- जब हम तुम्हें कह रहे थे कि गड्ढे से बाहर आना संभव नहीं है तो भी तुम छलांग मारते रहे, क्यों?
इस पर उस मेंढक ने जवाब दिया- दरअसल मैं थोड़ा-सा ऊंचा सुनता हूं और जब मैं छलांग लगा रहा था तो मुझे लगा कि आप मेरा हौसला बढ़ा रहे हैं और इसलिए मैंने कोशिश जारी रखी और देखिए मैं बाहर आ गया।

सीख : यह कहानी हमें कई बातें कहती है। पहली यह कि हमें हमेशा दूसरों का हौसला बढ़ाने वाली बात ही कहनी चाहिए। दूसरी यह कि जब हमें अपने आप पर भरोसा हो तो दूसरे क्या कह रहे हैं इसकी कोई परवाह नहीं करनी चाहिए।